आदिवासियों के बजूद को लेकर आजादी की लड़ाई लड़े बिरसा मुंडा: रोनिका शर्मा

Share this post

बिरसा मुंडा की जयंती पर आदिवासियों ने लिया धरती को बचाने का संकल्प

सोनभद्र।यह धरती हमारी है, हम इसके रक्षक हैं हर अन्याय के खिलाफ उलगुलान जारी रहेगा यह शपथ आदिवासी महिलाओं बच्चों के साथ बिरसा मुंडा फाउंडेशन के सचिव रोनिका शर्मा ने लिया ।

रोनिका शर्मा ने बिरसा मुंडा के जबरदस्त नेतृत्व और मातृभूमि की आजादी में उनके योगदान की परिचर्चा करते हुए बोलीं कि बिरसा मुंडा ने बेहद कम उम्र में अपना अलग मुकाम हासिल की बिरसा मुंडा के गुरिल्ला सेना, खूंटी थाने पर धावा, तांगा नदी घटना, बड़ी पहाड़ी की घटना प्रमुख रूप से रहा है। 15 नवंबर 1875 को जन्मे बिरसा मुंडा महज 25 वर्ष की उम्र में चक्रधरपुर से गिरफ्तार कर हजारीबाग जेल भेज दिया गया जहां से सजा के दौरान रांची जेल भेज दिया गया, जेल में ही धीमी गति का जहर देकर अंग्रेजों ने उनकी हत्या 9 जून 1900 में कर दी।

बिरसा मुंडा की जयंती पर कार्यक्रम प्रस्तुत करते आदिवासी बच्चे

बिरसा मुंडा फाउंडेशन के संरक्षक शांता भट्टाचार्य ने उलगुलान आंदोलन के विस्तृत चर्चा करते हुए आदिवासियों को अपने वजूद को कायम रखने के लिए बिरसा मुंडा के संघर्षों की याद दिलाई। बिरसा मुंडा के जन्मोत्सव कार्यक्रम में प्रमुख रुप से संज्ञा मिश्रा,शबाना राइन,तब्बसुन परवीन रंजन पांडे चौधरी यसवंत सिंह,महफूज़ खान,विकाश शाक्य,राहुल सेठ, श्याम मालवीय समेत दर्जनों महिलाएं शामिल होकर विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए।

Ravi pandey
Author: Ravi pandey

Related Posts

Live Corona Update

Advertisement

Advertisement

Weather

+43
°
C
+45°
+37°
Delhi (National Capital Territory of India)
Wednesday, 30
Thursday
+44° +35°
Friday
+42° +35°
Saturday
+43° +34°
Sunday
+43° +35°
Monday
+44° +36°
Tuesday
+45° +36°
See 7-Day Forecast

 

Live Cricket Updates

Stock Market Overview

Our Visitors

0 1 7 7 2 8
Users Today : 161
Users This Month : 2531
Total Users : 17728
Views Today : 206
Views This Month : 3817
Total views : 32344

Radio Live

Verified by MonsterInsights